mann deshi bank recruitment

बारहवींं मैंने प्राइवेट कर ली थी, मैं भी कॉलेज में जाकर यूथ फेस्टिवल में हिस्सा लेना चाहता था। मगर, घर में इसको लेकर ज्यादा प्रोत्साहन नहीं मिला था। ऐसे में मां ने मेरा हौसला बढ़ाया। भाई और मां ने अभिनय को लेकर प्यार को समझा तो तहसील से डॉक्यूटमेंट राइटर का काम छोड़ कॉलेज में लग गया। यहां से मेरे अभिनय के दम पर मेरी फीस भी माफ हो गई। उस दौरान यूथ फेस्टिवल में हम राष्ट्रीय स्तर पर विजेता रहे।