करश्म कपूर sexy

जम्हूरी अधिकारी सभा पंजाब जिला इकाई संगरूर ने मेडिकल कॉलेज की फीसों में की बढ़ोतरी की सख्त शब्दों में निदा करते हुए फैसला तुरंत वापस लेने की मांग की। जिला प्रधान नामदेव भुटाल व सहायक सचिव गुरप्रीत कौर ने कहा कि सरकार द्वारा मेडिकल कॉलेज की फीस में 77 प्रतिशत बढ़ोतरी कर दी है। जिसके तहत अब 4 लाख 40 हजार की बजाय 7 लाख 80 हजार रूपये फीस अदा करनी होगी। जो कि मध्यवर्गीय परिवार की पहुंच से दूर की बात है। जिससे परिजनों का बच्चों को डॉक्टरी पढ़ाई करवाने का सपना चकनाचूर हो गया है। सरकार का यह लोगों की शिक्षा के अधिकार पर सीधा हमला है। जिसके कभी बर्दाशत नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जुलाई 2013 में बादल सरकार द्वारा प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की फीस में बढ़ोतरी कर बीस से तीस लाख रुपये कर दी थी। बाद में मार्च 2014 में तीस से चालीस हजार कर दी गई। परन्तु अब कांग्रेस सरकार ने प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की फीस बढ़ाकर सरकारी कोटे के लिए 13.50 से 18 लाख कर दी है। वहीं तीनों मेडिकल कॉलेजों के मैनेजमेंट कोटे के लिए 40 से 47 लाख रुपये कर दी है। जिसके लिए केवल कांग्रेस सरकार जिम्मेदार है। नेताओं ने मांग की कि सरकार अपने फैसले को तुरंत वापस ले। ताकि बच्चे अपने परिजनों के सपनों को पूरा कर सके।