करन वयरस update

लॉकडाउन में आम लोगों की जिदगी बंधकर रह गई। नौकरी करने वाले घरों पर बैठ गए। स्कूल, कालेज बंद होने से छात्रों को भी घर पर रहना पड़ा। गाड़ियां बंद होने से ट्रांसपोर्टेशन व्यवस्था ध्वस्त हो गई। व्यापार, उद्योग, प्रतिष्ठान बंद होने से मालिक सहित श्रमिकों तक को परेशानी झेलनी पड़ी। इन तमाम मुश्किलों के बाद भी आम लोगों को सुकून के कुछ दिन जरुर मिले। डा. सुनील सिंह बताते हैं कि बहुत से लोगों ने लॉकडाउन को अवसर माना और कई बुरी आदतों से छुटकारा पा लिया। साफ-सफाई से रहने, सादा भोजन करने और मास्क का प्रयोग करने की अच्छी आदतें अब लोगों की जिदगी का हिस्सा हैं।