जंद रहने के लए तेर कसम फल्म

जिले में हर साल एक हजार के करीब लोग अपना डेंगू का टेस्ट करवाते हैं और औसत 400 से लेकर 700 तक लोग डेंगू का शिकार हो जाते हैं। इनमें से औसत चार लोगों की मौत हो जाती है। 2017 में साल 888 लोगों ने डेंगू के टेस्ट करवाए थे और डेंगू के कारण जिले में तीन की मौत हुई थी, जबकि जिले में डेंगू के 312 मरीज थे। 2018 में जिले के 625 लोगों को डेंगू हुआ था और दो लोगों की डेंगू से मौत हुई थी। 2019 में 400 लोग डेंगू का शिकार हुए थे और तीन की मौत हुई थी। इस वर्ष तक यह आंकड़ा 400 को पार कर गया है और डेंगू से एक की मौत हो चुकी है।