डजल रेट उत्तर प्रदेश

बेशक राज्य सरकार द्वारा 7 मई से ठेकेदारों को 7 बजे से 3 बजे तक की ढील के दौरान ठेके खोलने की इजाजत दे दी गई, परंतु डेढ़ माह से बंद पड़े ठेकों के कारण ठेकेदारों में रोष पाया जा रहा है व ठेकेदारों ने राज्य सरकार से ठेके खोलने के लिए अपनी मांगों के साथ शर्त तय की है। ठेकेदार तेजा सिंह, जगरूप सिंह, अंकित सूद, परमजीत सिंह ने कहा कि अगर राज्य सरकार चाहती है कि ठेकेदार एक कॉल करके शराब की घर-घर होम डिलीवरी करें तो ऐसा संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि आम दिनों में जहां उन्हें ठेके पर शराब बेचने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है तो वहीं अब होम डिलीवरी तो किसी भी हाल में संभव ही नहीं है। अगर वह एक एक बोतल को होम डिलीवरी के लिए शुरू करेंगे, तो उनके पास इतने कारिदे भी नहीं है कि वह यह सुविधा दे सकें। डेढ़ माह से बंद ठेकों से उन्हें करोड़ों रुपयों का नुकसान हो चुका है, क्योंकि जिले में प्रतिदिन 30 लाख की लाल परी बिकती है, अब ऐसे में या तो सरकार डेढ़ माह से बंद ठेकों का रेवेन्यू माफ करें व पूरा दिन खोलने के आदेश दें।