चरशे रुपये

फरीदकोट जिले की अन्य दोनों विधानसभा सीटों के मुकाबले कांग्रेस के लिए ज्यादा सुरक्षित सीट कोटकपूरा मानी जाती है, यहां अब तक कांग्रेस आठ बार विजयश्री हासिल करने में सफल रही है। 2017 के विधानसभा चुनाव कैप्टन के करीबी रहे भाई कुक्कू को टिकट मिला था, परंतु वह आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी कुलतार सिंह संधवा से दस हजार के वोटों के अंतर से हार गए थे। इस हार के बाद भाई कुक्कू की विधानसभा हलके में सक्रियता कम बेहद कम रही, परंतु उनके बेटे भाई राहुल सिंह सिद्धू पूरी तरह से सक्रिय रहे। अब अपने कार्यो की बदौलत सिद्धू पार्टी से टिकट मांग रहे हैं, अब यह देखने वाली बात होगी कि पार्टी इस बार भी सिद्धू पर ही दांव खेलती है या फिर अजय पाल संधू को चुनाव में उतारती है। इसके अलावा पार्टी दोनों को की जगह किसी तीसरे पर भी दांव खेल सकती है।