बल एक्स एक्स

अर्थव्यवस्था को लेकर अर्थशास्त्रियों का गणित अपनी जगह है, लेकिन गुणा-भाग के चक्कर में पड़े बिना बड़े-बुजुर्गों की मानें, तो धरतीपुत्रों के पसीने की बदौलत ज्येष्ठ-आषाढ़ में बाजार से मंदी का दौर कुछ हद तक खत्म होना शुरू हो जाएगा। एक अनुमान के अनुसार, अप्रैल से जून तक हरियाणा के किसानों की जेब में लगभग 20 हजार करोड़ रुपये आएंगे।