army recruitment 2017 in up hindi

इस मौके पर यूनियन के कार्यकर्ताओं द्वारा पंजाब सरकार का पुतला फूंका गया व प्रि. सचिव एमडी पनग्रेन इंचार्ज मालेरकोटला आशू गोयल को ज्ञापन सौंपा गया। यूनियन के कार्यकर्ताओं ने कहा कि विभाग व सरकार के मजदूर विरोधी फैसले के खिलाफ, 10-12 वर्षों से डयूटी करते सिक्यूरिटी गार्डों व दर्जा चार कर्मचारियों में रोष पाया जा रहा है। जिसको लेकर कर्मचारीयों ने शहर में रोष प्रगट किया। उन्होंने कहा कि एमडी पनग्रेन ने महामारी के दौरान आउट सोर्स कर्मचारियों का आर्थिक व मानसिक शोषण शुरू कर दिया है। गेहूं के भंडारों की रक्षा करने वाले सैकड़ों सिक्योरिटी गार्डों के परिवारों को सिक्योरिटी व्यवस्था में 50 प्रतिशत कटौती कर भूखमरी की ओर धकेल दिया है, जबकि बाकी कर्मचारियों की ड्यूटी शिफ्ट बारह घंटे कर काम बढ़ा दिया है। जिसके तहत मैनेजिग डायरेक्टर पनग्रेन द्वारा दस हजार मीट्रिक टन गेहूं की रक्षा के लिए केवल चार कर्मचारी रखने का फरमान जारी कर दिया है। डयूटी का समय आठ से बारह घंटे कर दिया है। जबकि किरत विभाग द्वारा सितंबर 2019 से 8776 रूपये 83 पैसे महीना वेतन, 8 घंटे नियत की गई है। उन्होंने कहा कि सिक्योरिटी घटाने से गेहूं भंडारों की रक्षा मुश्किल हो गई है। ऐसे में सिक्योरिटी गार्डों व पीआर चौकीदारों को आठ घंटे के वेतन के बदले बारह घंटे की खतरे वाली डयूटी मंजूर नहीं होगी। रेगुलर किए पीआर चौकीदारों को जीपीएफ नंबर जारी नहीं किए जा रहे हैं। स्वर्गवास हुए कर्मचारियों के वारिस नौकरी के लिए तरस रहे हैं। सेवामुक्त चौकीदारों को पेंशन का लाभ बंद कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि महामारी दौरान मास्क लगाने व सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए पंजाब सरकार व बिगड़ी अफसरशाही के खिलाफ संघर्ष को और तेज किया जाएगा। जिसके तहत पंजाब के दर्जा चार व ठेका मुलाजिमों द्वारा 27 मई से तीन जून तक राज्य भर में रोष सप्ताह मनाया जाएगा। पूरे राज्य में कर्मचारियों द्वारा सरकार के पुतले फूंके जाएंगे। जहां पर मांगों के याद पत्र पंजाब सरकार व मुख्य अधिकारियों को जिला कंट्रोलर के जरिए भेजे जाएंगे। 28 मई को जिला खजाना कार्यालयों के समक्ष गेट बैठकें कर रोष प्रदर्शन किए जाएंगे।