airport authority of pune recruitment 2019

लोकसभा क्षेत्र की अधिकांश जनता कृषि पर आश्रित है। इसके बावजूद क्षेत्र में कृषि आधारित उद्योग नहीं लग पाया है। जबकि क्षेत्र में पारंपरिक खेती के अलावा मक्का, गन्ना व मखाना का उत्पादन यहां वृहत पैमाने पर होता है। लेकिन घोषणा के बाद भी चीनी मिल स्थापित नहीं होने से लोग गन्ने की खेती से मुंह मोड़ लिया है। उदाकिशुनगंज क्षेत्र में ही मक्के की खूब पैदावार होती है। लेकिन क्षेत्र में कही भी मक्का आधारित उद्योग नहीं रहने से किसानों को अपनी फसल की उचित कीमत नही मिल पाती है। मुरलीगंज में जूट की खेती काफी मात्रा में होती थी। यहां जूट कॉरपोरेशन का कार्यालय भी था। लेकिन खेती में कमी आने के बाद कार्यालय बंद हो गया। सांसद का कहना है कि कृषि आधारित उद्योग लगाने के लिए निजी कंपनी को आमंत्रित किया गया है। हर साल बाढ़ का दर्द झेलते हैं लोग