www.airindia recruitment 2019

शरद ने बताया कि वे हर महीने कम से कम 200-200 रुपये जुटाते हैं। कोई छात्र ज्यादा भी दे देता है, तो किसी के कम रह जाते हैं। छह महीने या सालभर में जुटे पैसों को किसी न किसी सामाजिक कार्यों में लगा देते हैं। अब सेनेटरी नैपकिन के लिए अधिक पैसे जुटा रहे हैं, ताकि हर जरूरतमंद तक यह जरूरी सामान पहुंचाया जा सके। उनके स्वजन भी खुशी-खुशी जेब खर्च देते हैं।