सइकल चलने के लभ

डीजीपी मुकुल गोयल ने कहा कि साइबर क्राइम की कोई बाउंड्री नहीं होती है। साइबर अपराधी आजकल पेंशनर्स को निशाना बना रहे हैं। उन्होंने लगातार बढ़ रहे साइबर क्राइम के ग्राफ को देखते हुए इस तरह के वृहद अभियान की प्रशंसा करते हुए इसे समय की जरूरत बताया। डीजीपी के अनुसार प्रदेश के थानों में वर्ष 2019 में 10,341 और वर्ष 2020 में 11,772 साइबर क्राइम के मुकदमे दर्ज हैं। इस साल छह महीने के दौरान 5077 साइबर क्राइम के मामले दर्ज हो चुके हैं। वहीं, नेशनल साइबर क्राइम रिपाेर्टिंग पोर्टल (एनसीसीआरपी) पर अब तक उत्तर प्रदेश से 50 हजार शिकायतें दर्ज हुई हैं।