शवहर जल के न्यूज़

छपरा तरैया (सारण)। प्रखंड में लगातार दो माह में दूसरी बार बाढ़ आने से लोगों को संभलने का भी मौका नहीं मिला है। सैकड़ों लोग बेघर हो गए। सड़क के किनारे, ऊंचे बांधों व घर की छतों पर रहने को मजबूर हैं। लोगों का जीवन अभी भी अस्त-व्यस्त है। दियारा क्षेत्र से व्यवसायी नाव पर दूध का ड्रम लादकर ला रहे हैं। बेलहरी गांव के दुग्ध व्यवसायी संतोष कुमार राय ने बताया कि दूध का ड्रम नाव से लाद कर जाने में बहुत परेशानी होती है। माधोपुर,चंचलिया, भटगाई व पचौड़र व नारायणपुर पंचायत के लोग आज भी पानी से घिरे हुए हैं। इस बार सरकारी सुविधा को लेकर सभी सकते में हैं। बाढ़ के करण आरटीपीएस काउंटर बंद है। इससे विद्यार्थियों व अन्य लोगों का कोई भी प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहा है। प्रमाण पत्र बनाने के लिए अंचल कार्यालय द्वारा कोई भी वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गई है। अभी भी थाना, रेफरल अस्पताल, अंचल व प्रखंड कार्यालय अस्थायी रूप से अन्य स्थानों पर संचालित हो रहे हैं।