सेव कैसे बनते हैं

पड़ताल के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर व्यवस्था सफाई व्यवस्था ठीक दिखाई दी, लेकिन स्वास्थ्य कर्मचारियों की संख्या बहुत कम थी। कुछ कर्मचारी कोरोना की जांच कर रहे थे तो कहीं वैक्सीनेशन का काम चल रहा था। यहां पर वैक्सीनेशन के लिए सात सेंटर बनाए गए हैं। लोग टीकाकरण के लिए आ रहे हैं। जनरल ओपीडी पूरी तरह से बंद है। इमरजेंसी सेवाओं के लिए प्रत्येक चिकित्सक आठ घंटे की ड्यूटी दे रहे हैं। विकासखंड क्षेत्र के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र द्वारा पांच टीमें तैयार की गई हैं। इस केंद्र पर रविवार को भी कोरोना की जांच मात्र चार घंटे की जाती है। 16 स्वास्थ्यकर्मी हो चुके हें पाजिटिव: