sbi management executive recruitment 2018

गंगा की बाढ़ का पानी गांवों में कई दिनों से भरा हुआ है। ग्रामीण बाढ़ के पानी से आवागमन कर रहे हैं जिससे बीमारियों ने भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। आशा की मड़ैया में देवेंद्र कुमार, संगीता देवी, शांति देवी, रामप्रकाश, किशनपाल, रामलखन, नंदकिशोर, राजेंद्र कुमार, नरेंद्र सिंह, सपना, गीता देवी, उदयपुर में बृजेश, मुकेश, लड़ैते व फकीरे सहित लोग बुखार व खांसी से पीड़ित हैं। ग्रामीण झोलाछाप से इलाज कराने को मजबूर हैं। देवेंद्र कुमार कहते हैं कि गांव के हर घर में दो तीन लोग बुखार से परेशान हैं। बाढ़ का पानी होने से आवागमन में परेशानी है। स्वास्थ्य टीम न पहुंचने से पीड़ित झोलाछाप से इलाज करा रहे हैं। उदयपुर के बृजेश कुमार कहते हैं कि बाढ़ के पानी में निकलने से ग्रामीणों के हाथ पैर दर्द करते हैं। बाढ़ प्रभावित गांवों में आवागमन के लिए नाव उपलब्ध कराई गई है। बाढ़ से आवागमन बाधित नहीं होने दिया जाएगा। बाढ़ प्रभावित गांवों में स्वास्थ्य टीम भेजकर पीड़ितों को दवाइयां वितरित कराई जाएंगी।