renault recruitment india

संवाद सहयोगी, झुमरीतिलैया: गर्मी बढ़ते के साथ ही कोडरमा रेलवे स्टेशन और ट्रेनों में पानी की मांग बढ़ गई है। कोडरमा स्टेशन और रेलवे कालोनी में पानी की समस्या को दूर करने के लिए प्रतिदिन रेलवे के गैलन से 80 हजार लीट पानी मंगाया जा रहा है। यहां पानी गझंडी के पंपु तालाब से रेलमार्ग से लाया जा रहा है। हर वर्ष मई जून में पानी मंगाया जाता था, लेकिन इसबार अप्रैल माह से ही पानी मंगाना जारी है। स्टेशन के वाटर एटीएम के अलावा रेल नीर की बिक्री बढ़ गई है। स्थिति यह है कि रेल नीर पानी की बोतल उपलब्ध नहीं हो पा रही है। भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम ( आइआरसीटीसी ) प्लांटों से आपूर्ति के लिए लगा हुआ है। हालांकि कोडरमा रेलवे स्टेशन पर इस वर्ष गर्मी में पेयजल आपूर्ति को बेहतर किया गया है। ट्रेनों के आवागमन के समय यात्रियों को पानी उपलब्ध हो इसके लिए धनबाद रेल मंडल प्रशासन महती भूमिका निभा रहा है। स्टेशन प्रबंधक कोडरमा एमके महाराज ने बताया कि पानी की समस्या ना हो इसके लिए मुख्यालय को भी समय-समय पर अवगत कराया जा रहा है। स्टेशन परिसर में बोरिंग के साथ-साथ वाटर कूलर मे भी ठंडा पानी मुहैया हो रहा है, जबकि एटीएम वाटर कूलर से भी 5 रुपये और 10 रुपये से लोग पानी की खरीदारी कर अपने कंठ को गीला कर रहे हैं। तापमान 42 और 43 डिग्री तक पहुंच चुका है। वहीं पानी का लेयर काफी नीचे जा रहा है कोडरमा रेलवे स्टेशन से प्रतिदिन चार हजार से ऊपर यात्री आना-जाना करते हैं। धनबाद रेल मंडल के डीआरएम आशीष बंसल द्वारा यात्रियों को असुविधा ना हो इसके लिए विशेष दिशा निर्देश भी जारी किया गया है। स्टेशन परिसर में एक लाख गैलन का ट्रीटमेंट प्लांट पानी जमा करने के लिए बनाया जा रहा है। धनबाद के अधिकारी ने बताया कि तिलैया डैम से कोडरमा रेलवे स्टेशन तक पाइपलाइन बिछा कर पानी उपलब्ध होगा। इसके लिए अगले माह टेंडर किया जाएगा। लगभग 16 करोड़ की यह परियोजना दो-तीन वर्ष पूर्व स्वीकृत की गई थी। कोविड-19 की वजह से दो वर्षों से इस काम पर ब्रेक लगा हुआ था।