र ज द र र ठ र bhaskar

गुरनाम सिंह के वकील की ओर से दलील दी गई कि वह सीबीआइ की जांच में सहयोग कर रहे हैं। इसके अलावा वह केस से जुड़े किसी भी व्यक्ति के साथ किसी भी प्रकार का संपर्क नहीं कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें जमानत का लाभ दिया जाए। गुरनाम सिंह पर करोड़ों रुपये के फ्रॉड में आरोपित के खिलाफ कार्रवाई न करने की एवज में ढाई लाख रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप है। वहीं इस मामले में एक और आरोपित विनोद कुमार गुप्ता को भी अक्टूबर में जमानत मिली थी। उस पर भी इस साजिश में शमिल होने का आरोप है। उसने रिश्वत की रकम गुरनाम की मां के अकाउंट में ट्रांसफर की थी।