पुरन मबइल बेचन है

18 वर्षों से इसी प्रकार चेयरमैन व वाईस चेयरमैन पद का चुनाव रद हो रहा है। यह निदेशकों का शोषण है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि लगभग 18 वर्ष पहले इनेलो पार्टी से 2001 में सरदूल¨सह सतगौली गन्ना सोसाइटी के चेयरमैन बने थे। उसके बाद से लेकर अब तक चेयरमैन व वाईस चेयरमैन पद खाली पडे हुए है। न तो कांग्रेस सरकार के 10 वर्षों में और न ही भाजपा के 4 वर्षों में अभी तक गन्ना सोसायटी के चेयरमैन व वाईस चेयरमैन पद को लेकर कभी चुनाव हुआ। हर बार चुनाव की तारीख देने के बाद चुनाव को टाल दिया गया। बुधवार को भी वही हुआ जिसका पहले से अंदेशा लगाया जा रहा था। चुनाव रद्द होने पर निदेशकों में भारी रोष है। यदि चुनाव अधिकारी बैठक में पहुंचते तो निश्चित तौर पर चुनाव होता। चुनाव अधिकारी के बैठक से गायब रहने के चलते गन्ना सोसायटी रादौर को 18 वर्ष बाद भी चेयरमैन व वाइस चेयरमैन नहीं मिल पाया।