पेशब रुकने क इलज इन हंद

ओमिक्रोन वैरिएंट का चंडीगढ़ में पहला केस रिपोर्ट हो चुका है। इसके खतरे से निपटने के लिए अमृतसर स्थित श्री गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सुदूर देशों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग व टेस्टिंग की जा रही है। 65 रैपिड आरटीपीसीआर मशीनें इंस्टाल की गई हैं। यूके, ब्राजील, साउथ अफ्रीका, बोत्सावना, तंजानिया, घाना, मारीशस, न्यूजीलैंड, चीन, सिंगापुर, हांगकांग, इजराइल, जिम्बावे से भारत आने वाले यात्रियों पर प्रशासन की नजर है। इनमें से यूके, इटली व बर्मिंघम की डायरेक्ट फ्लाइट हैं, जो सीधे अमृतसर एयरपोर्ट पर पहुंचती हैं। अब तक पंजाब के 1400 यात्री इन देशों से अमृतसर पहुंचे। इनमें अमृतसर के 119 यात्री शामिल हैं। यात्रियों का रैपिड आरटीपीसीआर टेस्ट किया गया है। इनमें से इटली से आए तीन यात्री संक्रमित मिले। संक्रमितों में मां-बेटा कपूरथला से हैं, 21 वर्षीय युवक अमृतसर के घड़ियाल गांव का निवासी है। तीनों को अस्पताल में आइसोलेट किया है। साथ ही इनकी जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए सैंपल दिल्ली भेजे गए हैं।