moringa क हंद में लभ कैप्सूल

नयी दिल्ली, 10 दिसंबर (भाषा) इंडोनेशिया के मुल्यो हांडोयो और मलेशिया के टैन किम हर भारत के एकल और युगल बैडमिंटन कोच के रूप में वापसी करने के लिए तैयार हैं। उम्मीद है कि राष्ट्रीय महासंघ इस महीने के अंत तक उनकी नियुक्ति को अंतिम रूप दे देगा। कड़ाई से कोचिंग देने वाले मुल्यो की देखरेख में तौफिेक हिदायत ने एथेंस ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। भारत में संक्षिप्त कार्यकाल के दौरान 2017 में किदांबी श्रीकांत, बी साई प्रणीत और एचएस प्रणय जैसे पुरुष एकल खिलाड़ियों के खेल में काफी सुधार आया था। टैन किम हर, को चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की भारत की सर्वश्रेष्ठ युगल जोड़ी बनाने का श्रेय जाता है। उनके मार्गदर्शन में इस जोड़ी ने राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीता। उन्होंने 2018 में टीम को स्वर्ण में दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) के सचिव अजय सिंघानिया ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ मुल्यो और टैन किम हेर उन कुछ शीर्ष नामों में से हैं, जिन्होंने हमारे द्वारा विज्ञापन देने के बाद इन पदों के लिए आवेदन किया था। बीएआई उनकी सेवाओं का लाभ उठाना चाहता है क्योंकि उन्हें हमारे खिलाड़ियों के साथ काम करने का पूर्व अनुभव है।’’बीएआई ने 18 नवंबर को कोच के पदों के लिए विज्ञापन दिया था । पुरुष एकल कोच अगुस द्वी सैंटोसो ने अपना अनुबंध पूरा होने से कुछ हफ्ते पहले पिछले महीने टीम का साथ छोड़ दिया था।सिंघानिया ने कहा, ‘‘ मुल्यो और टैन भारतीय प्रणाली को समझते हैं इसलिए हम उनका समर्थन कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि जनवरी में इंडिया ओपन से उनकी सेवाएं मिलने लगेंगी। बेशक, इसमें अभी चीजों को अंतिम रूप दिया जाना बाकी है क्योंकि हम अभी करार से जुड़े विवरण पर चर्चा कर रहे हैं।’’