मेडकल हेल्थ इन्शुरन्स

नई दिल्ली चुनाव चिह्न घूस मामले में टी.टी.वी.दिनकरन और उसके साथी मल्लिकार्जुन को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिनकरन पर पार्टी के जब्त किए गए दो पत्तियों वाले चुनाव चिह्न को हासिल करने के लिए निर्वाचन आयोग के अधिकारियों को 50 करोड़ रुपये की रिश्वत देने का आरोप है। अपराध शाखा ने उनसे चार दिनों से लगातार पूछताछ कर रही थी। पुलिस ने बताया कि दिनकरन ने बिचौलिए सुकेश चंद्रशेखर से मिलने की बात कबूल की है। सुकेश को इस मामले में पहले गिरफ्तार किया गया है। एआईएडीएमके लीडर दिनकरन ने कहा कि उन्होंने चंद्रशेख को कोई पैसा नहीं दिया। खबरों के अनुसार चंद्रशेखर की योजना इस पैसे को चुनाव आयोग के अधिकारियों को रिश्वत देने की थी। कुल 50 करोड़ रुपये रिश्वत के तौर पर दिया जाना था। गौरतलब है कि AIADMK के शशिकला धड़े को टोपी चुनाव चिह्न आवंटित किया गया है। बता दें कि चुनाव आयोग ने शशिकला और ओ पन्नीरसेल्वम धड़े में विवाद के कारण AIADMK का चुनाव चिह्न जब्त कर लिया था। चंद्रशेखर ने कथित रूप से पुलिस को बताया कि वह दिनकरन के 'बिचौलिए' हैं और एआईएडीएमके के दिनकरन वाले धड़े को पार्टी का 'दो पत्तियों' वाला चुनाव चिह्न आवंटित करने के लिए अधिकारियों को पैसा देने के लिए उनको कहा गया था। मंगलवार को दिल्ली के एक कोर्ट ने पुलिस से कहा था कि वह घूस के आरोप मामले में दिनकरन के खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है। दिनकरन जेल में बंद एआईएडीएमके चीफ वी.के.शशिकला का भतीजा है। दिनकरन पार्टी में बगावत का सामना कर रहे हैं क्योंकि पार्टी के उनके धड़े ने फैसला लिया है कि दिनकरन और शशिकला को उनके पदों से हटाया जाएगा। एआईएडीएमके के इस धड़े ने पूर्व मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम वाले धड़े के साथ विलय की योजना बना रहा है।