कुत्त सेक्स वडय

भारत सरकार से अनुमोदित रत्न ग्राम्य विकास समिति द्वारा संचालित आरआर नशा मुक्ति केन्द्र का शुभारम्भ एक अप्रैल सन 2000 को पूर्व ब्लॉक प्रमुख स्वर्गीय रामरतन ¨सह यादव ने किया। वह इस संस्था के अध्यक्ष थे। इस संस्था में नशेड़ियों का निश्शुल्क इलाज किया जाता है। खाने की व्यवस्था भी संस्था निश्शुल्क करती है। संस्था की लोकप्रियता का आलम यह है कि सीतापुर, हरदोई, रुद्रपुर, बरेली, बदायूं, रामपुर, मुरादाबाद, मथुरा, हाथरस, नरोरा, रायबरेली, पंजाब, हरियाणा के नशे के लती यहां आते हैं। इनका इलाज यहां होता है। डॉक्टर द्वारा प्रतिदिन रोगियों का चेकअप कर दवाइयां दी जाती हैं। स्वस्थ रखने के लिए योग व मशीनों द्वारा एक्स-साइज कराई जाती है। संस्था में नियुक्त सलाहकार मोहम्मद नासिर खान रोज नशे से होने वाले नुकसान व उसे छोड़ने के लिए तरह-तरह के उदाहरण देकर समझाते हैं। उनका दावा है कि यहां नशे के आदी व्यक्ति को 15 से 45 दिन के भीतर ठीक किया जा सकता है। संस्था के प्रबंधक हरज्ञान ¨सह यादव ने बताया की संस्था में 15 बैड सरकार से आवंटित हैं, लेकिन मरीजों की संख्या को देखते हुए संस्था ने पांच और बैड का इंतजाम कर रखा है। इस समय रामपुर के बाबू ,नादिर, विशाल वशिष्ठ, सुमित, रिजवान खां, नगर के आलम, मिलक के प्रेमपाल, दिल्ली के हरी ¨सह, बरेली के मुस्तेकीम, रुद्रपुर के सुनील कुमार, दुर्गेश, बदायूं के संजय, संभल के सचिन शर्मा, मुरादाबाद के अमित ¨सह समेत करीब डेढ़ दर्जन मरीज भर्ती हैं। सभी इस संस्था की लोकप्रियता व मरीजों के ठीक होने की जानकारी पर यहां आए हैं। संस्था को मिलते हैं 15 लाख