करड़पत बनने के उपय

दूसरी ओर वरिष्ठ समिति के चेयरमैन शिवानंद पांडेय ने कहा कि सेंट्रल बार द्वारा 30 नवंबर को वरिष्ठ समिति का गठन कर एक दिसंबर को चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर दी गई। इसलिए चुनाव घोषणा के वक्त जो बायलाज प्रभावी रहा। उसके आधार पर वरिष्ठ समिति द्वारा चुनाव कार्यक्रम निर्धारित किया गया। चुनाव घोषणा के बाद चार दिसंबर को संशोधित बायलाज लाया गया, जिसके आधार पर चुनाव कराया जाना विधि व संविधान सम्मत नहीं है।