कमनवेल्थ गेम्स 2018 भरत

सबंग उपचुनाव के बाद अनुमान के विपरीत इसकी गूंज राजनीतिक हलकों से ज्यादा प्रशासनिक महकमे में सुनाई पड़ रही थी, क्योंकि पुलिस महकमे में निचले स्तर से लेकर ऊपर तक हुए बदलाव को ले विवाद उठ खड़ा हुआ था। इससे शासक दल टीएमसी नेता सुकून महसूस कर रहे थे, क्योंकि अक्सर चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद छिटपुट ¨हसा की घटनाओं के छींटे उसे सहन करने पड़ते थे। जल्द होने वाले पंचायत चुनाव के मद्देनजर दलीय नेता इस परिस्थिति से बचना चाह रहे थे, लेकिन पिछले दो दिनों में सबंग के पानपाड़ा समेत तीन स्थानों पर हुई मारपीट की छिटपुट घटनाओं से पार्टी नेतृत्व बेचैन है, क्योंकि इसमें कथित तौर पर विरोधी दल को वोट देने के चलते मारपीट का आरोप लगाया गया। हालांकि इस मामले को अब तक न तो विरोधियों ने ज्यादा तूल दिया और न पुलिस में शिकायत ही दर्ज हुई। इसके बावजूद नेताओं में ऐसी परिस्थिति से बचने की बेचैनी दिखाई दे रही है। टीएमसी जिलाध्यक्ष अजीत माईती ने कहा कि उपचुनाव के बाद भी सबंग में कार्यकर्ता पंचायत चुनाव की तैयारियों में जुट चुके हैं। विरोधी बेसिर पैर के आरोप लगा सकते हैं, लेकिन इसमें लेशमात्र भी सच्चाई नहीं है।