jammu kashmir recruitment 2019

मुजफ्फरपुर, जाटी। उत्तर बिहार में रविवार को भी बाढ़ का कहर जारी रहा। पश्चिम चंपारण में बारिश से नदियों के जलस्तर में फिर वृद्धि होने लगी है। गंडक बराज से शाम तक 1.83 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया। पूर्वी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, शिवहर और सीतामढ़ी जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्थिति गंभीर बनी है। सुगौली -नरकटियागंज रेलखंड पर करीब एक सप्ताह से परिचालन बाधित है। वहीं समस्तीपुर-मुक्तापुर डाउन लाइन पर दूसरे दिन भी ट्रेनों का परिचालन बाधित रहा। समस्तीपुर के मोरवा प्रखंड की गुनाई बसई पंचायत में नून नदी का बांध टूटने लगा है। दरभंगा के दिल्ली मोड़ बस स्टैंड में भी पानी घुस गया है। शिवहर का सीतामढ़ी, चंपारण और मुजफ्फरपुर से सड़क संपर्क भंग रहा। मुजफ्फरपुर जिले में बूढ़ी गंडक व गंडक खतरे के निशान से ऊपर है। शहर के निचले इलाके मिठनसराय, विजयी छपरा, कर्पूरी ग्राम, सिकंदरपुर कुंडल, शेखपुर ढाब व आश्रमघाट में सैकड़ों घर पानी से घिरे हैं। हजारों घरों में बूढ़ी गंडक का पानी प्रवेश कर चुका है। कटरा प्रखंड में बागमती नदी के जलस्तर में डेढ फीट से अधिक की कमी आई है। बकुची, पतारी व नवादा के मुख्य सड़क पर पानी का बहाव जारी है।