epfo recruitment for the post of assistant

राजेश भट्ट, लुधियाना : नगर निगम कमिश्नर प्रदीप सभ्रवाल के आदेशों के बाद नगर निगम के नाइट शेल्टरों में साफ-सफाई तो हो गई, लेकिन बिस्तर अभी भी गंदे पड़े हैं। यही नहीं कोरोना के कारण बाहर सोने वाले लोग भी नाइट शेल्टर में जाने को तैयार नहीं हैं। हालात यह हैं कि तीन में से दो नाइट शेल्टरों में एक भी व्यक्ति रहने को नहीं पहुंचा, जबकि एक में पांच लोग पहुंचे। वह भी कोरोना संक्रमण से डरे हुए हैं। कोरोना का भय ऐसा है कि दो बेघर लोग घंटाघर के पास नाइट शेल्टर के बाहर सोए हुए थे, लेकिन नाइट शेल्टर के अंदर जाने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि वह बाहर अलग-अलग सोए हैं और नाइट शेल्टर के अंदर उन्हें एक कमरे में कई लोगों के साथ रखा जाएगा। दैनिक जागरण ने नगर निगम के तीन नाइट शेल्टरों का देर रात जायजा लिया। इसमें दो नाइट शेल्टर बिल्कुल खाली पाए गए, जबकि शहर की सड़कों पर लोग खुले में सोए हैं। कमिश्नर के आदेशों के बावजूद वीरवार रात को बेघरों को लेने के लिए सिटी बस नहीं पहुंची।