drdo dfrl recruitment 2020

चिराग पासवान की आशीर्वाद यात्रा पर सभी दलों की नजर है। लेकिन भाजपा इस पर विशेष ध्यान दे रही है। इसके जरिये वो चिराग की राजनीतिक ताकत का अंदाजा लगाएगी। बता देंकि अपने चाचा पशुपति पारस 5 सांसदों के साथ चिराग से अलग हो चुके हैं। वे लोजपा पर अपना दावा ठोंक रहे हैं। इस मामले को लेकर चिराग चुनाव आयोग की शरण में हैं। माना जा रहा है कि इस यात्रा के बाद भाजपा फैसला करेगी कि चिराग उनके साथ रहेंगे या नहीं। वहीं, चुनाव आयोग भी संभवत: इसके बाद कोई फैसला ले सकता है कि लोजपा पर किसका अधिकार रहेगी-चिरा