cifnet recruitment 2020

कोटला रोड स्थित कुतकपुर चनौरा में नगर निगम द्वारा अस्थाई खत्ताघर बनाया गया है। यहां पिछले चार साल से हर रोज सैकड़ों मीट्रिक टन कूड़ा डंप हो रहा है। कूड़े के ढेर से उठती दुर्गंध के कारण कुतकपुर चनौरा, हिम्मतपुर, नगला पानसहाय व रैपुरा गांव के हजारों ग्रामीणों का दिन का चैन व रात की नींद उड़ा दी है। बढ़ते प्रदूषण के कारण सैकड़ों ग्रामीण सांस जैसी गंभीर बीमारियों का शिकार हो चुके हैं। दो सप्ताह पहले एक 45 वर्षीय युवक की मौत हो गई। इससे पहले भी कई लोगों की मौत हो चुकी है। गर्मी के दिनों में तो हालात बहुत गंभीर हो जाते हैं। खत्ताघर से सुबह से शाम तक आग की लपटे उठती रहती हैं, जिससे लोगों का सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है। नगर निगम के कर्मचारी कूड़े के ढेर में आग लगाकर गायब हो जाते हैं। इससे पीड़ित ग्रामीणों ने पिछले साल कोटला रोड पर जाम लगाकर विरोध प्रदर्शन किया था। ग्रामीणों का कहना है कि समस्या निदान को जनप्रतिनिधियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हो रही।