british airways recruitment 2017 india

मुख्य अतिथि जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह ने कहा कि आज बालिकाएं पहले से कहीं अधिक सशक्त हैं। अब ग्रामीण क्षेत्र में भी बालिकाएं व महिलाएं जागरूक हो रही हैं। उन्होंने कहा कि यदि कहीं भी बेटियों के साथ भेदभाव हो रहा है, तो नि:संकोच सूचना दें। मिशन शक्ति के तहत बेटियों को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था जनपद में लगातार जारी है। विशिष्ट अतिथि राज्य महिला आयोग सदस्य मिथिलेश अग्रवाल ने कहा कि बालिकाओं की भागीदारी अब सभी क्षेत्रों में है। लड़कियां प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं और अपने अधिकारों के प्रति भी जागरूक हो रही हैं। मुख्य विकास अधिकारी एम. अरून्नमोलि ने बेटियों को संबोधित करते कहा कि अभी बालक दिवस मनाने जरूरत नहीं आई है, इसका मतलब है बेटियों को अभी बेटों के बराबर आने में और संघर्ष की जरूरत है। बेटियों को बराबर का अधिकार दिलाने के लिए हम सबको अपने घर से ही शुरुआत करने की आवश्यकता है। कार्यक्रम का संचालन बाल संरक्षण अधिकारी सचिन सिंह ने किया। राजकीय बालिका इंटर कालेज की प्रधानाचार्य संघमित्रा भाष्कर के निर्देशन में सोनाली व स्नेहा ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। शुभी शुक्ला, अर्पिता मौर्या, काजल, प्रांजल पाल, इकरा खान, प्रिया पाल, महिमा पाल, जागृति अवस्थी ने गीत प्रस्तुत कर सभी का दिल जीत लिया। पूजा दुबे ने अपने भाषण से बालिकाओं में उत्साह भरा।