अटल सेव केंद्र जब

शिव आधार त्रिवेदी, जगतपुर : जल के बिना जीवन अधूरा है। मानव हो या फिर पशु-पक्षी। वर्तमान परिवेश में पेड़ों की अंधाधुंध कटान और तालाबों के अस्तित्व गहराते जा रहे हैं। इस संकट का असर पर्यावरण पर पड़ने लगा है। जलस्तर दिनोंदिन नीचे जा रहा है। साधारण हैंडपंपों ने पानी उगलना बंद कर दिया है। वहीं गर्मी में पानी के संकट से जूझ रहे पशु-पक्षी प्यास बुझाने के लिए मीलों का सफर तय करते हुए बस्तियों तक आने लगे हैं। इसकी वजह जल संरक्षण का न होना है। सरकार की ओर से अब बारिश की हर एक बूंद को सहेजने की तैयारी चल रही है। कुछ इसी उद्देश्य से जलाशय, तालाबों का निर्माण कराया जा रहा है। बारिश से पहले इन्हें तैयार करना सबकी प्राथमिकता है। आने वाले दिनों में बारिश से धरती की प्यास बुझ़ेगी। साथ ही जलाशय भी महीनों पानी से लबालब भरे रहेंगे।