arm recruitment india

औरंगाबाद। शिक्षा विभाग का हाल बेहाल है। विभाग का कार्य किसी तरह चल रहा है। इस विभाग में तैनात अधिकारी व कर्मी नियम से काम करना पसंद नहीं करते। अधिकारी भी नियमों को ताक पर रखकर विद्यालय का संचालन कर रहे हैं। अधिकारियों के मनमानी के विरोध में हमेशा विद्यालयों में तालाबंदी, हंगामा एवं धरना प्रदर्शन होते रहता है। शिक्षक मांगों को लेकर प्रदर्शन करते हैं। अधिकारियों पर गलत करने का आरोप लगाते हैं। यहां के अधिकारी अपनी मर्जी से विद्यालयों में शिक्षकों को प्रभार दे रहे हैं। कई विद्यालय में वरीय की जगह कनीय शिक्षक प्रभार में हैं। शिक्षा विभाग का आदेश हवा में उड़ते रहता है। कुटुंबा प्रखंड के उच्च विद्यालय डुमरी में प्रभार को लेकर शिक्षकों में विवाद चल रहा है। जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा कई बार विवाद सुलझाने का प्रयास किया गया परंतु अब तक स्थिति नहीं सुधरी। देव प्रखंड के उच्च विद्यालय पवई की स्थिति यही है। यहां भी करीब छह महीना से प्रभार को लेकर विवाद चल रहा है। शिक्षकों में आपसी विवाद का असर शिक्षा व्यवस्था पर पड़ रही है। बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं मिल पा रहा है। बता दें कि ऐसे कई विद्यालय हैं जहां प्रभार को लेकर विवाद चल रहा है। जांच के नाम हो रही खानापूर्ति