अजय क सर faking news

गोंडा : नौनिहालों के भविष्य को संवारने के लिए जमीन की तलाश करके स्कूल तो खोल दिए गए लेकिन, बच्चे कैसे पहुंचेंगे? यह सोचना जिम्मेदार भूल गए। इसके चलते छात्र मेड़, नाला व तालाब के बीच से होकर जान जोखिम में डालकर विद्यालय पहुंच रहे हैं। यही नहीं गुरु जी भी अपने वाहन मुख्य मार्ग पर पटरी के किनारे खड़ा करके स्कूल आते हैं। इस समस्या से जिम्मेदार बेखबर हैं। पेश है कमल किशोर सिंह की रिपोर्ट - ²श्य-एक