आंख फड़कने के करण

शहर में छेड़छाड़ की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। जिले में हर दिन दो से तीन मामले छेड़छाड़ के थानों तक पहुंच रहे हैं। यह तो वह शिकायतें हैं जो थानों तक पहुंच गई हैं। कई घटनाएं तो थानों तक भी नहीं पहुंचती हैं।