आईपएस बनने के लए यग्यत

कोड: टेक एंटरप्रेन्योर और सॉफ्टवेयर इंजीनियर हाडी पाटरेवी ने इस कंप्यूटर बेस्ड एजुकेशन प्लेटफॉर्म को बच्चों के लिए शुरू किया है। यह फ्री है। यह प्लेटफॉर्म माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक, अमेजन, इंफोसिस फाउंडेशन और गूगल के सपोर्ट से चलता है। कोडिंग सीखने के लिए पहले साइनइन करना होगा। यहां पर पांचवीं क्लास तक के बच्चे खुद अपना गेम, एप और कंप्यूटर ड्रॉइंग बनाना सीख सकते हैं। वहीं कक्षा छह से 12वीं तक के बच्चे ब्लॉक्स, जावा स्क्रिप्ट, सीएसएस, एचटीएमएल आदि की मदद से रियल वर्किग एप, गेम्स और वेबसाइट बनाने के प्रॉसेस को समझ सकते हैं। यहां पर दुनियाभर के 5 करोड़ से अधिक बच्चों ने 10 करोड़ से अधिक प्रोजेक्ट तैयार किए हैं। हर मॉड्यूल में प्रोजेक्ट डिस्क्रिप्शन, टिप्स, डेमो मिलते हैं। बच्चे वन ऑवर ट्यूटोरियल को भी ट्राई कर सकते हैं, जहां 180 देशों के स्टूडेंट्स और टीचर आवर्स ऑफ कोड प्रोग्राम में हिस्सा लेते हैं। अच्छी बात है कि यह हिंदी भाषा को भी सपोर्ट करता है।