yadav सेक्स वडय

नयी दिल्ली, नौ जनवरी (भाषा) सरकार ने गंगा की स्वच्छता पहल में सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों और कॉरपोरेट क्षेत्र से राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) के साथ जुड़ने की अपील की ताकि पूरे गंगा बेसिन में नदी में निर्मलता और अविरलता सुनिश्चित की जा सके।जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय के सचिव यू पी सिंह ने यहां एक कार्यशाला में कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के सभी उद्यम और कॉरपोरेट क्षेत्र एनएमसीजी के साथ जुड़े । ‘‘ जिस रूप में वे इस मिशन से जुड़ना चाहते हैं, उनका स्‍वागत है।’’ उन्होंने कहा कि एनएमसीजी ने एसबीआई, यूबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और यस बैंक जैसे बैंकिंग नेटवर्क का उपयोग स्‍वच्‍छ गंगा के संदेशों को प्रदर्शित करने के लिए किया है। एचसीएल, इंडोरामा, यस बैंक, एससीआई, इंडस इंड बैंक जैसे संगठन एनएमसीजी के साथ जुड़े हुए हैं। सिंह ने कहा कि एचसीएल ने नोएडा और ग्रेटर नोएडा में वनीकरण परियोजनाओं की शुरुआत की है। इसके अलावा आईएनटीएसीएच के सहयोग से एचसीएल उत्‍तराखंड में रूद्राक्ष का पौधारोपण कर रहा है। एनएमसीजी के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्रा ने कहा कि सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र के उद्यमों के लिए इस मिशन से जुड़ने की अपार संभावनाएं हैं । यह इसलिये जरूरी है ताकि पूरे गंगा बेसिन में नदी की निर्मलता और अविरलता सुनिश्चित की जा सके। राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ गंगा मिशन के सहयोग से राष्‍ट्रीय जल मिशन के तत्‍वावधान में कॉरपोरेट सामाजिक दायित्‍व (सीएसआर) पर सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों की कार्यशाला कार्यशाला का आयोजन किया गया था जिसमें 30-35 नवरत्‍न कंपनियों, अन्‍य सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों, रिलायंस फाउन्‍डेशन जैसी निजी क्षेत्र की कंपनियों तथा टेरी, सीआईआई जल संस्‍थान जैसे संगठनों ने भाग लिया। कार्यशाला के दौरान राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ गंगा मिशन ने गंगा संरक्षण के लिए किये गये प्रयासों को प्रदर्शित किया गया।