weather ग ज य ब द 10 days

चुनावी मुकाबला आमने-सामने का लेकिन कांटे की टक्कर का कहा है। 2015 तक हुए विधानसभा चुनाव में प्रशासनिक सख्ती के बावजूद रूपये और शराब के बूते वोटरों को अपने पक्ष में गोलबंद करने की तिकड़म लगाने से प्रत्याशी नहीं चूकते थे। 2005 के विधानसभा चुनाव में शहर के समीप डहेरिया टोला में मतदान से एक दिन पूर्व गरीब तबके की महिला मतदाताओं के बीच साड़ी बांटने का मामला चर्चा में रहा था। विधानसभा चुनाव में वोटर स्थानीय मुद्दों को आधार बनाकर मतदान करते हैं।